वायु सेना के जांबाजों का करतब देख नौनिहालों के अरमानों को मिला आसमान

एयर शो देखने आए बच्चों ने कहा : सेना के जांबाज ही हमारे असली हीरो, इनसे हैं हम महफूज

कोलकाता, 20 जनवरी (हि.स.)। भारत के सबसे बड़े एयरफोर्स स्टेशनों में से एक पश्चिम बंगाल में कलाइकुंडा एयर बेस‌ पर जब सूर्य किरण और हॉक्स फाइटर प्लेन उड़ान भर रहे थे तब वहां मौजूद सैकड़ों की संख्या में नौनिहालों के सपनों को भी नया आसमान मिल रहा था। वे सपने जो उन्होंने अभी से ही मातृभूमि की सेवा और समर्पण के लिए सजाना शुरू कर दिया है। जब एयरफोर्स के जांबाज हवा में पैराग्लाइडिंग करते हुए तिरंगे को लहरा कर करतब दिखा रहे थे तब इन मासूमों के चेहरे खिले हुए और आंखें कौतुहल से भरी नजर आईं। हिन्दुस्थान समाचार से बातचीत में इन बच्चों ने कहा,
“आज पता चला कि हमारा देश कितान महान है। हमारे देश की सेना कितनी महान है। अपने जान की परवाह किए बगैर वे देश की सीमाओं की रक्षा करते हैं। यह शो इस बात का सबूत है कि हम आज उनकी वजह से ही महफूज हैं। ये ही हमारे देश के असली हीरो हैं।”


मैं यह शो कभी भूल नहीं पाऊंगी। कहते हुए भावूक हो जाती हैं केंद्रीय विद्यालय (केवी), कलाईकुंडा में कक्षा ग्यारहवीं में पढ़ने वाली ऋतृषा मंडल। वह अपने साथियों के साथ शुक्रवार को कलाईकुंडा एयरफोर्स स्टेशन में आयोजित सूर्य किरण औ आकाश गंगा की टीमों का हैरंतगेंज एयर शो करतब देखने आईं थीं।
बंगाल के झारग्राम जिले की रहने वाली मंडल कहती हैं, आज का यह पल जीवन का अनमोल पल है। इसको मैं कभी भूल नहीं पाऊंगी। सोचा भी नहीं था कि हमको ऐसा मौका मिलेगा। ये हमारे असली हीरों हैं, इनके कारण ही हम आराम से सो पाते हैं। किनता मुश्किल है, ऐसा करतब दिखाना। देखकर रोमांचति हूं, सोचकर रोमांचित हूं और यहां आकर रोमांचित हूं। देश के वीरों को दिल से सैल्यूट करना चाहती हूं।”
इसी एयर शो को देखने के लिए आए केवी (दो) के रजत भट्टी कहते हैं, पहले भी देखा है लेकिन जितनी बार भी देखता हूं, मन देश के इन वीरों के लिए दिल से दुआएं निकलती हैं। आगे चल कर इंजीनियर बनने की चाह रखने वाले रजत कहते हैं, जिस तरह से हमारे देश के जवान देश की सेवा कर रहे है, उसी तरह मैं भी इंजीनियर बन कर देश की सेवा करना चाहता हूं। यह एक भावूक कर देने वाल पल है। देखिए ना कि किस तरह अपनी जान की परवाह किए बगैर, हमारे देश की सीमाओं की रक्षा करते हैं। ऐसे महान देश के सपूतों को …बस क्या कहूं…कहते हुए मौन हो जाते हैं रजत। काफी देर बाद फिर कहते हैं…बस देश की सेवा करने वालों के लिए दिल से दुआएं निकलती हैं।”
मैं भले ही डॉक्टर बनना चाहती हूं लेकिन हर वक्त देश के जवानों के लिए दिल धड़कता है। चाहती हूं आईएएस बनकर मैं भी इसी तरह देश की सेवा करूं। आज यहां आकर यह जाना कि किन कठिन परिस्थितियों से निकलकर इनसान आगे बढ़ता है। कड़ी मेहनत ही सफलता की कूंजी है, यह समझ आया। यह एक रोमांचक अनुभव था। बस इतना कहना चाहती हूं, हमारे देश की सेना को दिल से सैल्यूट करना चाहती हूं, कहते हुए आकाश की ओर सूर्य किरण को देखने लगती हैं केंद्रीय विद्यालय दो, कलाईकुंडा में नौवीं में पढ़ने वाली एलिशा। एलिशा कहती हैं, आज का यह शो देखकर मेरा मन सेना के लिए और श्रद्धा से भर गया। अलीशा के परिवार में कोई भी फौज में नहीं है। उनके पिता ड्राइवर हैं लेकिन केंद्रीय विद्यालय में अपनी प्रतिभा के बल पर इस बिटिया को दाखिला मिला है। अब देश की सरहदों के निबहगानी उनका नया सपना है।
इसी तरह एयर शो देखकर गद्गद् हुए अंकित सोनारी ने कहा, हमारी सेना कितनी वीर है। कितनी महान है। कितनी ताकतवर है। यह आज यहां आकर मालूम चला। क्या अनुभव था। पैराशूट से लेकर आकाश गंगा ने जो करतब दिखाए, लगता है, हर वक्त ऐसा नजारा देखने को मिले। यह देखकर मन देश के लिए कुछ कर गुजरने का करता है। अभी हम भले ही छोटे हैं, लेकिन हम भी इसी तरह से मेहनत करेंगे और देश की सेवा करेंगे।

हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश

About लोक टीवी

Check Also

डाक्टर सुधीर कुमार की याद में शोक सभा

सिवान, 22 जुलाई। बुधवार को सीवान जिला नागरिक विकास परिषद के निराला नगर स्थिति कार्यलय …

Gram Masala Subodh kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *