प्रत्यक्षदर्शियों का दावा : सीएम को किसी ने नहीं दी थी धक्का, खुद गिर गई थीं

 

 

कोलकाता, 11 मार्च: नंदीग्राम में नामांकन के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गिरने और पैर में चोट लगने की घटना पूरे देश में सुर्खियों में छाई हुई है। सीएम ने दावा किया है कि चार पांच लोगों ने जानबूझकर उन्हें धक्का दिया। मौके पर पुलिस मौजूद नहीं थी और उन्हें जान से मारने की साजिश रची गई थी। हालांकि प्रत्यक्षदर्शी कुछ और ही कहानी बयां कर रहे हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि सीएम को किसी ने धक्का नहीं दी थी बल्कि वह खुद ही भीड़ की वजह से गिर पड़ी थीं। मौके पर मौजूद एक छात्र ने बताया कि जब मुख्यमंत्री वहां आई थीं तब उन्हें देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ लग गई थी। उसी भीड़ से निकलकर जब ममता बनर्जी अपनी गाड़ी की तरफ जा रही थी तो अचानक गिर पड़ी थीं। गाड़ी के दरवाजे में ही उन्हें चोट लगी थी।

एक अधेड़ उम्र के शख्स ने भी इसी तरह की कहानी बयां की है। मीडिया से मुखातिब उस शक्स ने बताया कि सीएम को किसी ने धक्का नहीं दी थी। वह गाड़ी की तरफ बढ़ रही थीं और जैसे ही चढ़ने की कोशिश की उनका पैर फिसल गया था और गिर पड़ी थीं। इसी वजह से उन्हें चोट लगी है।

इन प्रत्यक्षदर्शियों के सामने आने के बाद मुख्यमंत्री के दावे पर सवाल खड़े होने लगे हैं। खास बात यह है कि घटना के 12 घंटे से अधिक का वक्त बीत जाने के बाद भी पुलिस ने अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या सच में किसी ने ममता बनर्जी को धक्का दिया था या दुर्घटना बस वह गिर पड़ी थीं?

अमूमन ममता बनर्जी का यह स्वभाव रहा है कि जब भी किसी रैली या क्षेत्र के दौरे पर निकलती हैं तो प्रोटोकॉल तोड़कर आम लोगों के बीच साधारण व्यक्ति की तरह पहुंच जाती हैं। स्थानीय लोगों का दावा है कि नंदीग्राम में भी यही हुआ था। सीएम लोगों की भीड़ के बीच मौजूद थीं और उन्हें देखने के लिए और अधिक भीड़ बढ़ती जा रही थी। इसी भीड़ के बीच अनजाने में दुर्घटना हुई है जिसे लेकर सीएम ने हमले का दावा किया है। संभवत है इसी वजह से विपक्षी पार्टियां मुख्यमंत्री पर नाटक करने का आरोप लगा रही हैं।

राजनीतिक पंडितों का मानना है कि अगर सीएम पर हमले नहीं हुए और मुख्यमंत्री ढोंग कर रही हैं तो इसका उन्हें जबरदस्त राजनीतिक नुकसान उठाना पड़ेगा। नंदीग्राम समेत राज्य के अन्य हिस्सों में लोगों के मन में उनके प्रति नफरत तो पैदा होगा ही साथ ही नंदीग्राम के लोग यह समझेंगे कि सीएम के प्रति प्रेम से वह देखने गए थे और मुख्यमंत्री ने उन्हें फंसाने की कोशिश शुरू कर दी।

चुकी मुख्यमंत्री फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं इसलिए विपक्षी पार्टियों ने तीखा हमला नहीं किया है। सूत्रों ने बताया है कि चुनाव आयोग की अंतिम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है ताकि यह स्पष्ट हो सके कि आखिर मुख्यमंत्री के साथ हुआ क्या है।

About Sulochna Singh

Check Also

बेतिया : प्रांतीय खेलकूद प्रतियोगिता के तैयारियों की समीक्षा बैठक संपन्न

बेतिया : विद्या भारती की उत्तर बिहार प्रांत इकाई लोक शिक्षा समिति, बिहार के तत्वावधान …

Gram Masala Subodh kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published.