ममता के अल्पसंख्यक मंत्री ने सड़क जाम कर रोकी कोरोना वैक्सीन की सप्लाई, विरोध करने पर लोगों को डंडे से पीटा

लोक संवाददाता, कोलकाता, 13 जनवरी। जानलेवा महामारी कोरोनावायरस से बचाव के लिए टीके का इंतजार पूरा देश कर रहा था। मंगलवार को ही केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल में आवश्यक टीके की खुराक विशेष विमान से भेज दी थी। इसके बाद राज्य स्वास्थ्य विभाग विशेष वातानुकूलित वाहनों के जरिए इसे राज्य के अन्य हिस्सों में पहुंचा रहा है। लेकिन बुधवार को पूर्व बर्दवान जिले में ममता बनर्जी के प्रिय मंत्री और राज में विवादित अल्पसंख्यक चेहरा सिद्दीकुल्ला चौधरी ने सड़क जाम कर वैक्सीन की सप्लाई ही रोक दी। यहां तक कि जब इससे परेशान लोगों ने विरोध किया तो वह हाथ में डंडे लेकर स्थानीय लोगों को ही पीटने लगे। इसका वीडियो वायरल हुआ है जिसकी वजह से उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है। दरअसल कृषि कानूनों के खिलाफ पूर्व बर्दवान के गलसी में राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) को जाम कर सिद्दीकुल्ला अपने समर्थकों के साथ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे।

वह अल्पसंख्यकों के राष्ट्रीय संगठन “जमात ए उलेमा ए हिंद” के राज्य अध्यक्ष भी हैं। उनके साथ बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने सड़के जाम की थीं। इससे स्थानीय लोगों को काफी परेशानी होने लगी थी। पुलिस ने बताया है कि सड़क जाम की वजह से कोरोना वैक्सीन को ले जा रहे वातानुकूलित वाहन को दूसरे रास्ते से घुमा कर ले जाना पड़ा। इसके अलावा सड़क जाम से नियमित कार्य हेतु नहीं पहुंच पाने की वजह से परेशान लोगों ने जब इसका विरोध किया तो चौधरी ने हाथ में डंडे लेकर लोगों को भगाना और मारना शुरू कर दिया।
भाजपा ने उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रही है। इस मामले में सत्तारूढ़ पार्टी ने चुप्पी साध रखी है। उल्लेखनीय है कि सिद्दीकुल्ला चौधरी वही नेता हैं जिन्होंने एनआरसी को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने देने की चेतावनी दी थी। उन्होंने एक लाख मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ हवाई अड्डे को घेरने की धमकी भी दी थी।

About नवीन सिंह परमार

Check Also

पत्रकार के साथ बदसलूकी मामले में बांका न्यायालय सख्त, बीडीओ को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश

एमित कुमार झा, रजौन/ बांका   बांका जिलांतर्गत अमरपुर प्रखंड विकास पदाधिकारी राकेश कुमार के …

Gram Masala Subodh kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published.